मनोरंजन

जानिए धर्मेंद्र जी की जिंदगी के कुछ दिलचस्प किस्से

धर्मेंद्र देओल की अपनी ज़िंदगी भी काफी दिलचस्प रही है | धर्मेंद्र देओल, अपने समय के बेहद प्रसिद्ध अभिनेता, निर्माता एवं एक सफल राजनेता हैं | ८ दिसंबर १९३५ को पंजाब में जन्मे धरम पाजी, को बॉलीवुड में “ही-मैन” और “एक्शन किंग” के नाम से जाना जाता है | १९९७ में धर्मेंद्र साहब को हिंदी सिनेमा में योगदान के लिए फिल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार मिला। धर्मेंद्र सिंह देओल बॉलीवुड फिल्मों के लीजेंड अभिनेता हैं | उन्होंने करीब 250 हिंदी फिल्मों में अभिनय किया है और यादगार प्रदर्शनों में चुपके चुपके और शोले में शामिल हैं।

धर्मेद्र साहब ने भी रचाई थी दो शादियां

धर्मेंद्र का पहला विवाह 1 9 54 में 1 9 वर्ष की आयु में प्रकाश कौर था। दंपति के 4 बच्चे हैं, दो बेटियां, सनी देओल और बॉबी देओल और दो बेटियां, विवेता देओल और अजीता देओल। अपने पहले विवाह से उनके दो बेटे, सनी और बॉबी, सफल अभिनेता, और दो बेटियां, विजयी और अजीता हैं। उनके चार पोते हैं |

धर्मेंद्र ने १९८० में हेमा मालिनी जी से शादी रचाई और इनकी दो बेटियां हैं, एशा देओल और अहाना देओल |

धर्मेद्र और हेमा मालिनी ने अपनाया था इस्लाम धर्म

धर्मेंद्र की पहली बीवी ने उन्हें तलाक देने से इंकार कर दिया, तो धर्मेंद्र ने 1980 में हेमा मालिनी से इस्लाम में परिवर्तित होने के बाद ही शादी की क्योंकि उनकी पहली पत्नी प्रकाश कौर ने उन्हें तलाक देने से इंकार कर दिया था।उनका नया नाम दिलवर खान और ऐशा बाई था और उन्होंने धर्मेंद्र के असली नाम और धर्म के छिपाने के कारण धर्मेंद्र के नामांकन पत्रों को अस्वीकार करने की मांग की थी।

हज़ारों हसीनाओ के दिल की धड़कन धर्मेद्र भी थे किसी के दीवाने |


धर्मेंद्र प्रसिद्ध गायिका अभिनेत्री सुरैया जी के बड़े प्रशंसक/दीवाने थे | कहा जाता है कि उन्होंने सुरैयाजी की फिल्म ‘दिलगी’ (1 9 4 9) को 40 बार अपने गृहनगर शेनेवाल से कई मील पैदल चलकर एक सिनेमा हॉल में देखा करते थे | यही नहीं, जब 2004 में सुरैया जी की मृत्यु हुई तो धर्मेद्र जी उनके अंतिम संस्कार में भी शामिल हुए |

शोले में धर्मेंद्र को वीरू की बजाय ठाकुर की भूमिका निभाने के लिए कहा गया था |


शोले बॉलीवुड की एक प्रतिष्ठित फिल्मों में से एक है और हेमा मालिनी और धर्मेंद्र के सबसे यादगार फिल्मो में से एक है। Ndtv.com पर एक रिपोर्ट के अनुसार, धर्मेंद्र ठाकुर बलदेव सिंह के किरदार के लिए बेहद उत्सुक थे | परन्तु जब उन्हें बताया गया कि संजीव कुमार हेमा मालिनी के साथ फिर वीरू की भूमिका में होंगे | यह वह समय था जब हेमा मालिनी ने संजीव कुमार के शादी के प्रस्ताव को न कहकर धर्मेद्र को हाँ कहा था | और तब फिल्म में कुछ बदलाव हुए और धर्मेंद्र वीरू के किरदार में थे और संजीव कुमार ने ठाकुर बलदेव सिंह की भूमिका निभाई, जिसमे ठाकुर और बसंती का कोई भी दृशय नहीं था |

धर्मेंद्र को अपनी पहली मूवी के लिए मिले थे मात्र 51रुपये |

सन 1960 में धर्मेंद्र ने फिल्म में ‘दिल भी तेरा हम भी तेरे’ नमक एक फिल्म के साथ कदम रखा। उन्हें इस फिल्म के लिए केवल ५१ रुपये का भुगतान किया गया था |

 

उन्हें कई ऐक्शन फिल्मों में अभिनय करने वाले हिंदी सिनेमा के “एक्शन किंग” के रूप में जाना जाता है और धर्मेंद्र साहब को आज भी बॉलीवुड का लीजेंड माना जाता है।धर्मेंद्र देओल ने खुद को हिंदी फिल्म उद्योग के सबसे प्रमुख आंकड़ों में से एक के रूप में स्थापित किया है।

बॉलीवुड के कुछ और दिलचस्प किस्सों के लिए पढ़ते रहिये पनवाड़ी |

Leave a Reply

%d bloggers like this: